ये अजीब रिवाज

ShaliNi ShaRma

ये अजीब रिवाज
(3)
पाठक संख्या − 43
पढ़िए

सारांश

घूंघट का रिवाज
Ooooooooo Ooooooooo
Good
रिप्लाय
प्रकृति
bhut behtrin,aaj kl pdhi likhi society me iska prchln bilkul khtm hi ho chuka h ,,,ye prda pratha vakai bhut hi dkiyanusi h
रिप्लाय
आशिष पण्डित
ऐसे फालतू के रिवाजो को नही मानना चाहिए। अच्छा लिखा है
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.