याद

Mitali gupta

याद
(11)
पाठक संख्या − 33
पढ़िए

सारांश

विरह वेदना
Sonu Sharma
Very Nice..............................................👌👌👌👌👌 Very Nice.........................................👌👌👌👌👌👌line..................…..........................✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️ Thanks So Much................…......🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 आप की जितनी तारीफ की जाए इतनी ही कम है इसलिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद बहुत ही अच्छा लिखा यह पढ़कर बहुत अच्छा लगा आपका बहुत-बहुत धन्यवाद🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆 🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
Rajaram Kumar
सही है । (लेकिन पूरी दुनिया जितना अपना हे उतना ही पराया )
रिप्लाय
Sarita Chaturvedi
बहुत खूब
रिप्लाय
मनु
फिर याद तेरी आई , सुखे जख्मो ने ली अंगडाई , यादे सुनहरी हो तो जी लेता है इंसान ,और यादे दर्द भरी हो तो मर भी नही सकता है सुंदर रचना बाते भुल जाती है यादे याद आती है ,यादे....यादे यादेदेदेदेदे...
रिप्लाय
Sweeti Thakur
यादों को आपने बिल्कुल सही दर्शाया है बहुत खूब 🤗🤗🤗🤗👌👌👌👌👌👍👍👍👍👍
रिप्लाय
आशिष पण्डित
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
Deepak Shukla
विरही रचना ।
manoj solanki
बहुत ही सुन्दर
रिप्लाय
Vinay Anand
अनुपम, अप्रतिम
रिप्लाय
Himanshu raghav
बहुत सुंदर लिखा है।। 💐
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.