"यादों के सहारे"

शहला अंस।री

(167)
पाठक संख्या − 4427
पढ़िए

सारांश

कुछ प्रेम कहानियां अधूरी रह जाती हैं
Shradha Singh
avinash ne achhha nhi kiya. use sb bta dena chahye tha ....
रिप्लाय
Gaurav Maurya
निशब्द
रिप्लाय
Geeta Pandole
बहुत मार्मिक कहानी है ,लेकिन पढ़कर ऐसा लगा जैसे ये अधूरी कहानी है इसके बाद भी बहुत कुछ लिखा जा सकता है । बेहतरीन कहानी है दिल को छू गई।
रिप्लाय
पिंकी राजपूत
ओह! बहुत ही मार्मिक कहानी...
रिप्लाय
मौमिता बागची
त्याग और बलिदान की सुंदर कहानी। काश, आंचल फिर कभी अविनाश से मिल पाती और उसके हकीकत से रूबरू हो पाती।
रिप्लाय
Sunil Nishad
कहानी बहुत अच्छी और भावनात्मक थी
रिप्लाय
Dipika Singh
speechless
रिप्लाय
Khushi Priyanka Gupta
Dil ko Chu gai aapki kahani. lekin Avinash ki aanchal ko sach bata dena chaiye. aanchal bhi Thur ghut ghut Kar jiyegi aur Avinash bhi.
रिप्लाय
प्रदीप तिवारी
हृदयस्पर्शी मार्मिक कहानी अच्छी तरह से सामने रखा। प्रेम में सिर्फ पाना ही नहीं अपितु त्याग का होना भी जरुरी है
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.