यादों की बरसात

Raj Gautam

यादों की बरसात
(3)
पाठक संख्या − 16
पढ़िए

सारांश

ये मौसम बरसात का और उस पर तेरी याद। दिल बार बार कर रहा है तुझसे मिलने की फरियाद। तू आये मिलने मौसम-ए-बरसात में। दिल झूम उठे मेरा दीदार-ए-सौगात में। आजा मेरी जान दिल पुकार रहा है तुझे। जीने नही दे रहा ...
Neha Mishra
nice 👌👌
रिप्लाय
दिलीप मकवाना
बहुत बढ़िया👌
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.