यह तो होना ही था....

मधु अरोड़ा

यह तो होना ही था....
(90)
पाठक संख्या − 16286
पढ़िए

सारांश

ये मोबाईल जबसे चलन में आये हैं, लोगों की दुनिया ही बदल गई है। जो करम पहले नहीं होते थे, वे अब खुल्‍लमखुल्‍ला होने लगे हैं। पहले घर में एक फोन हुआ करता था और घर के लोगों की जानकारी में वे सभी फोन होते ...
prem kumar
बहुत सुन्दर। मेरी कहानी, टीन का लोटा पढ़ें और टिप्पणी दें, आलोचनाओं का मैं स्वागत करूँगा।
कोमल राजपूत
आखिर हुआ तो वही। जो उसका पति कर रहा था वही उसकी पत्नी ने किया... अगर बात ज़रूरत की है तो फिर हो सकता है वो दूसरी औरत भी अपनी ज़रूरत ही पूरी कर रही हो। उस हिसाब से तो गलत कौन हुआ?
रिप्लाय
राम लाल
अच्छी है पर------theoretical
Reeti Srivastava
किसी भी औरत को अपने बारे में निर्णय लेने का पूरा हक है।
रिप्लाय
Shubhra Agarwal
I don't think so that if one person is doing wrong then other person has to do the same. I don't agree.i understand everyone has their own need but still this is wrong.
रिप्लाय
गीता
Bakwaas story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.