यह क्या हुआ

नेहा अग्रवाल नेह

यह क्या हुआ
(124)
पाठक संख्या − 8018
पढ़िए

सारांश

ऑफिस में जेट प्लेन की स्पीड से काम करने के बावजूद घड़ी की सुईयों ने रिमझिम को मात दे दी थी ।बॉस ने पूरे स्टॉफ को वार्निंग दी थी ।की आज कोई भी अपना काम अधूरा छोड़ कर नहीं जायेगा ।वरना उसकी नौकरी खतरे ...
Krishna Khandelwal singla
बहोत सुंदर रचना
संतोष सुधाकर
अच्छी कहानी । कौन किसकी मदद कर रहा होता है, यह तो भगवान के अलावा कोई नहीं जानता । 👌👍
Archana Varshney
बहुत बढ़िया
Punam Saxena
very nice story par real m ajkal kaha hote h eise log
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.