यह किस्सा भी खूब रहा

मणिका मोहिनी

यह किस्सा भी खूब रहा
(11)
पाठक संख्या − 941
पढ़िए

सारांश

जी, बाई गॉड की कसम. यह किस्सा भी खूब रहा. उसने मुझे FR भेजी। वैसे तो मैं दो-तीन म्यूच्यूअल फ्रेंड्स देख कर स्वीकार नहीं करती लेकिन उसका हाई क्लास स्टेटस देख कर स्वीकार कर ली. शुरू में मैं कभी उसकी ...
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.