मौन स्वीकृति

पाली कौर

मौन स्वीकृति
(205)
पाठक संख्या − 26224
पढ़िए
mukesh nagar
सुंदर रचना।👌👌
Neel Choubisa
👏👏👏👏👌👌
Seema Khan
bahut khoob.👌👌
Meena Rawat
reena ka sahi faisla orat akeli vhi shashakt hoti hai.
मदन मोहन समर
घर के भीतर बनते बिगड़ते रिश्तों की अच्छी कहानी
विश्वनाथ विश्व
कथ्य की शुरुआत अच्छी रही पर अंत थोड़ा और बेहतर हो सकता था लगा अंत की 4/5 पंक्तियाँ जैसे जल्दबाजी में लिखी गयी। नारी सशक्तिकरण का यह पहलू अब बहुत जाना सा हो गया कुछ नयेपन का अभाव से लगा अंत में
रिप्लाय
Ajit
Life is not so easy as shown by the authoress but the story inspires the readers.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.