मौत..... तेरा... भरोसा....न रहा....

Hema Ingle

मौत..... तेरा... भरोसा....न रहा....
(4)
पाठक संख्या − 195
पढ़िए

सारांश

RIP श्रीदेवी ""..... मन नहीं मान रहा ,आप चली गई हो, मेरी दुनिया को कई रंगो से भरनेवाली ,भावों को सजानेवाली,चुलबुली शितल "चांदनी" इस जहाँ को विंदा कह गई .... Speechless....
Ajay Nidaan
बहुत अच्छी रचना लिखी हैं आपने काबिले तारीफ़ रचना हैं शब्दो का उचित इस्तेमाल है और रचना सार्थक हैं
रिप्लाय
आकाश इफेक्ट
कविता का आरंभ 'कमी' शब्द से है या 'कभी' शब्द से? कमी शब्द का ताल-मेल पंक्ति के अन्य शब्दों से नही हो रहा।
रिप्लाय
shobhana tarun saxena
ultimate 👌
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.