मोहभंग

शोभा शर्मा

मोहभंग
(632)
पाठक संख्या − 44224
पढ़िए

सारांश

कहानी आईना होती है समाज का ,मेरी गुजारिश है कि यदि सच्चाई कड़वी हो तो भी कृपया अच्छी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिये उस माँ के लिये जिसकी यह कहानी है..सच्चाई को समझते हुये अपने आसपास को सुधारने का प्रयास करिये , एक माँ की भावनाओं , परवरिश, ममता को उसका प्रतिदान मिला या आज कल नये जमाने की हवा ने उसकी ममता को स्वार्थों की बलि चढ़ा दिया जानने के लिये पढ़िये!! कस्बाई संस्कृति से अलग हो गई महानगरीय सोच,नौकरी करते बेटे बहुओं को माँ और आया/बाईयों में फर्क करना नहीं आ रहा.
Hemant Jha
ज्वाइंट फैमिली की अहमियत लोग समझने लगे हैं , पर इंसान अपनी फितरत से मजबूर हैं । लोग बेटे को दोष देते हैं पर बहू की भूमिका महत्वपूर्ण होती है ।लड़कों को संस्कार देना जरूरी है कि वो नारी की इज्ज़त करना सीखें तो लड़कियों को भी संस्कार देने की जरूरत है कि वो निभना सीखें । वर्तमान का चित्रण करती एक अच्छी कहानी ।
रिप्लाय
Archna Maru
vartman ki yahi vastvikatA h Jo ki uchit Nahi h par kahani bahut Sundar h man Chu Liya very nice heart touching
रिप्लाय
Shaline Gupta
मोह भंग सही कहा आपने। आजकल बच्चे माँ के आस्सित्व को नकारते ही है।
रिप्लाय
Sharda Rawat
आज का सच
रिप्लाय
aggarwal amit
aajkal ki haqiqat hai
रिप्लाय
Mohd Arif
story Ka end achcha Nahi lga ...
रिप्लाय
Sudhir K Pandey Pandey
वर्तमान परिस्थितियों को बहुत ही मार्मिक ढंग से शब्दों में कलम बंद किया गया है. कहानी सुन्दर लगी.
रिप्लाय
mamta samal
superb ⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐👍👍
रिप्लाय
rachna rani
very nice story
रिप्लाय
Shivani Singh Singh
ye kahani nahi....ye hakikat hai aaj ki...... kuch aurto ko apne maa baap to ache lagte hsi........aur saas sasur bure kyuuuuuuuuu.........
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.