मोहभंग

शोभा शर्मा

मोहभंग
(569)
पाठक संख्या − 42074
पढ़िए

सारांश

कहानी आईना होती है समाज का ,मेरी गुजारिश है कि यदि सच्चाई कड़वी हो तो भी कृपया अच्छी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिये उस माँ के लिये जिसकी यह कहानी है..सच्चाई को समझते हुये अपने आसपास को सुधारने का प्रयास करिये ,एक माँ की भावनाओं ,परवरिश, ममता को उसका प्रतिदान मिला या आज कल नये जमाने की हवा ने उसकी ममता को स्वार्थों की बलि चढ़ा दिया जानने के लिये पढ़िये .....?दुःख की नदी सावन के महीने सी पैर पसारे पड़ी थी.सुधा इस कूल ऋषिराज उस कूल.दोंनो दग्ध हृदय छटपटाते .....
Mamta Gupta
khani smaj ki sachchai h jo dil ko chune k saath dukhi bhi krti h ki pati ke mata pita kya samman ke bhi adhikari nahi h yadi nahi to patni ke mata pita se bhi koi rishta nahi hona chahiye dono akele rahe
रिप्लाय
Bihari Gupta
मर्मस्पर्शी कथानक, वास्तविकता को लेकर वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अधिकांश मामलों में यही हो रहा है।आपको हार्दिक शुभकामनाएं
रिप्लाय
Sangeeta Mittal
bahut pyari story hai sudha ko itne din rehna nahi chaiye tha jis din bachche ka namkaran nani ke yahan hua usdin ticket karwa lene chaiye the lekin phir bhi sudha ne late hi sahi sahi decision liya
रिप्लाय
Anand Parkash Aggarwal
सीएम ज्यादा कुछ ना कहते हुए सिर्फ इतना ही कि अब हर शब्द और हर रिश्तों के मायने बदल गए हैं। हमारी समझ में जो बात आई है। वह यह कि बेटे और बहू के बीच में कभी भी नहीं बोलना चाहिए और ना ही कोई सुझाव देना चाहिए। सिर्फ मुक दर्शक की भांति देखते रहना चाहिए। बहुत ही सुंदर कहानी है। बहुत ही मार्मिक वर्णन किया गया है। 😥
रिप्लाय
Geeta Rawat
speechless
रिप्लाय
Anita Tiwari
sahi h aajkal yahi ho rha h
रिप्लाय
Pushpa Jain
fact of life
रिप्लाय
Gurdeep Kaur
ajkal rishte swarthi ho gaye hai
रिप्लाय
ritik sharma
aaj ki khani h .
रिप्लाय
Pooja Chauhan
such a imotional story....but good one 👌🏻👌🏻
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.