मोहभंग

शोभा शर्मा

मोहभंग
(515)
पाठक संख्या − 39579
पढ़िए

सारांश

कहानी आईना होती है समाज का ,मेरी गुजारिश है कि यदि सच्चाई कड़वी हो तो भी कृपया अच्छी प्रतिक्रिया अवश्य दीजिये उस माँ के लिये जिसकी यह कहानी है..सच्चाई को समझते हुये अपने आसपास को सुधारने का प्रयास करिये ,एक माँ की भावनाओं ,परवरिश, ममता को उसका प्रतिदान मिला या आज कल नये जमाने की हवा ने उसकी ममता को स्वार्थों की बलि चढ़ा दिया जानने के लिये पढ़िये .....?दुःख की नदी सावन के महीने सी पैर पसारे पड़ी थी.सुधा इस कूल ऋषिराज उस कूल.दोंनो दग्ध हृदय छटपटाते .....
Girja Aima
It is 80% realty of life.
Amita Swapnil Awasthi
Nice and hearttouching story
Jyoti Patidar
बहुत सुंदर कहानी हैं मोहभंग, आज की युवा पीढ़ी जिस तरह से स्वार्थी होती जा रही हैं उससे डर लगता हैं कि कहीं किसी के भी मन में संवेदना , करुणा जैसी चीजें बचेंगी ? या ये केवल किताबी बातें रह जाएंगी।
Nirmala Singh
कहानी अच्छी लगी अगर माँ बाप शादी के समय समझदारी दिखाते तो इतनी दुरियाँ नहीं होती।
रिप्लाय
Vaishali Yerawar
aaj ki vastvikta
रिप्लाय
Babita Gautam
♥ touching story
रिप्लाय
Nisha Patil
very emotional
रिप्लाय
Anita Dwivedi
Jab apne bachche hi maa bap ko apnapan nahi dete to bahu se kya ummeed kare, aaj ka hér vyakti swarthi ho gaya hai, jb jarurat hui to aapki yaad aai warna aapki koi value nahi hai
रिप्लाय
Savinder Kaur
ek hakeekat
रिप्लाय
Pratibha Mishra Pande
सुंदर रचना जीवन कि कड़वी हकीक त
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.