मोटी कहीं की

Kavita Nagar

मोटी कहीं की
(76)
पाठक संख्या − 8505
पढ़िए

सारांश

पति दुबला पतला और लक्ष्मी मोटी हो गई, आफत हो गई बेचारी की।
Shikha Shrivastava
मोटी सोच वाले जाहिल लोग
Reema Bhadauria
जंहा मतलब है वंहा पर सब चलती है पतली हो या मोटी ।लाजवाब 😊😊
sonali tak
कविता जी बहुत अच्छा लिखा आपने कैसे लिखा अपने जबरदस्त काबिलियत
रीतू गुलाटी
बहुत उम्दा।मेरी रचना भी पढे एक बार।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.