मैसेज

डॉ. लवलेश दत्त

मैसेज
(329)
पाठक संख्या − 15499
पढ़िए

सारांश

“जाने किस कुलच्छिनी को बहु बना लिया? हज़ार बार कहा था खूब सोच-समझ ले, कालेज में पढ़ी लड़की के लच्छन अच्छे नहीं होते...पर नहीं...देखते ही मन लुटा बैठा इस कुल्टा पर...।” माँ ने ताना देकर विनोद को कोसा। ...
डॉ. इला अग्रवाल
yhi hota h purush ese hi ladkiyan fansaate h aur fir ladki ko hi doshi btate h chahe bv ho ya gf
Kiran Sharma
बहुत अच्छी कहानी है।यही इस भारतीय समाज की सच्चाई है सारे कानून और जवाबदारी सिर्फ औरतों की। पुरूषों को पूरी छूट है कुछ भी करने की । कहानी पूरी तो करनी चाहिए थी
Davinder Kumar
कहानी बहुत जबरदस्त है
Fahmina Abidi
bahut accha laga ye kahani padhkar ab aise hi baal pakadkar do slap kare vinod ke
anusuiya
bhot hi achi kahani h
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.