मैली कोख

Neelima Mishra

मैली कोख
(3)
पाठक संख्या − 251
पढ़िए

सारांश

तुम तो तप रही हो माई, माथे पर गीली पट्टी बदलते हुए गौरी बोली। नही रे, बस बुखार ही तो है ठीक हो जावेगा। हम्म, तुम बीमार न हुआ करो माई, हमरा कलेजा बैठ जाता है, एक तुम्हरे सहारे तो हम जी रहे हैं अपने बस ...
suruchi
nice स्टोरी
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.