मैं पलाश चतुर्वेदी

मिताली सिंह

मैं पलाश  चतुर्वेदी
(69)
पाठक संख्या − 6932
पढ़िए

सारांश

“मैं पलाश  चतुर्वेदी आज इन पत्तों को साक्षी मानकर तुम्हें अपनी पत्नी स्वीकार करता हूं ।“ “ये क्या बकवास है ?“ -कहते हुए मेघा ने तेजी से अपना हाथ पलाश  की हथेली से वापस खींचा । “अरे तुम्हें नही पता, ...
Davinder Kumar
वास्तविकता के बहुत करीब है आपकी यह कहानी
मीना मल्लवरपु
A perfect story!!श की जगह ष का प्रयोग खटकता है-कृपया उसे संशोधित कर लें!
Manoj Shukla
आज के युग की प्रेम कहानी ।ष की जगह श का प्रयोग करें
mukesh nagar
सच में जीवन में ऐसे मुखौटे पहने आदमी को पहचानना बेहद मुश्किल है। अच्छा लिखा आपने।👌👌
योगेश नारायण
कहानी ठीक ठाक है , लेकिन अंत भला तो सब भला वाली बात नही रही । अच्छी कोशिश की आपने, परिणाम औसत से कम रहा । षादी - शादी खुषी - खुशी ष - श इन शब्दों पर ध्यान दें ।
रिप्लाय
Kiran sharma
good decision.buch gai megha
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.