मैं चरित्रहीन थी न.....!

विनायक शर्मा

मैं चरित्रहीन थी न.....!
(272)
पाठक संख्या − 7617
पढ़िए

सारांश

यह कहानी एक लड़की के प्रति हमारे समाज की सोच की प्रस्तुति है।
Usha Garg
बहुत बढ़िया
Rachana Wadekar
बेहतरीन कथा.
Rekha Jain
बहुत सुन्दर
yezdi
समाज की सोच को बदलने के लिये एक बहुत श्रेष्ठ कहानि पढने सोचने अपन।ने ल।यक
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.