मैं और मेरा कातिल

प्रीति श्रीवास्तव

मैं और मेरा कातिल
(208)
पाठक संख्या − 18891
पढ़िए

सारांश

श्रेय हँस कर बोला पता नहीं रोबर्ट आया था की भूत पापा! फिर ताली बजा कर बोला - भूत आया,भूत आया, भागो!भागो! अचानक झल्ला कर शीना एक थप्पड़ जर दी श्रेय रोने लगा और लाल लाल आँखों से देखते हुए बोला -"आप मुझे मारी कल पापा को भूत मारेगा और आपको भी। "सजल श्रेय को क्यों मार दी बच्चा है चलो श्रेय को सॉरी बोलो शीना श्रेय के तरफ मुड़ कर देखि तो सकते में आ गई श्रेय की आँख अजीब डरावना और होठों पर विचित्र मुस्कान था फिर भी वह सॉरी बोल कर उसका हाथ पकड़ी जो काफी सख्त लगा। श्रेय अपने कमरे में सोने चला गया और शीना सजल अपने कमरे में चले गए।
Rajesh Kumar
kahani kuchh bhi samajh nahin aayi?? apki kahani mein koi sir pair nahin Mila!! please agli baar aur behtar prayas kijiye!!! best of luck!!
Priya gupta gupta
Hindi likhna Sikh lijiye pahle....plz story baad me likhna.. so much grammatical errors..
Amayara Samariya
lagta h ap likhna kuch aur chahti thi likh kuch aur dia.. grammatical mistakes b h.. hme lgta h ap agli bar isse behtar likh skte ho.. good luck
Vikas Bansal
bahut hi badiya kahani
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.