मैं और मेरा कातिल

प्रीति श्रीवास्तव

मैं और मेरा कातिल
(161)
पाठक संख्या − 15265
पढ़िए

सारांश

श्रेय हँस कर बोला पता नहीं रोबर्ट आया था की भूत पापा! फिर ताली बजा कर बोला - भूत आया,भूत आया, भागो!भागो! अचानक झल्ला कर शीना एक थप्पड़ जर दी श्रेय रोने लगा और लाल लाल आँखों से देखते हुए बोला -"आप मुझे मारी कल पापा को भूत मारेगा और आपको भी। "सजल श्रेय को क्यों मार दी बच्चा है चलो श्रेय को सॉरी बोलो शीना श्रेय के तरफ मुड़ कर देखि तो सकते में आ गई श्रेय की आँख अजीब डरावना और होठों पर विचित्र मुस्कान था फिर भी वह सॉरी बोल कर उसका हाथ पकड़ी जो काफी सख्त लगा। श्रेय अपने कमरे में सोने चला गया और शीना सजल अपने कमरे में चले गए।
Porshia Ban
मज़ा नहीं आया ।
sachin kothari
badhiya aur thodi daravni bhi
Sandeep Rajput
कोई और काम पकडो़ ये तुम्हारे बस के बाहर है।
satyam mishra
कहानी तो अच्छी थी पर व्याकरण असुद्धियाँ अधिक है
Kaushal Madan
कुछ खास नहीं भाषा में गलतियां हैं
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.