मेरी बहु - फुटबॉल चैम्पियन

नेहा रस्तोगी

मेरी बहु - फुटबॉल चैम्पियन
(14)
पाठक संख्या − 1028
पढ़िए

सारांश

बूढ़ी माँ बेटे से --बेटा, अब, बूढ़ी हो गयी हूँ , तुझसे अब एक बात कहूँ ,नहीं होता, घर का काम ये मुझसे, लादे मुझको, एक बहू ,सब्जी खरीदने से लेकर, खाने बनाने तक का, सारा काम,मेरी भी, अब उमर हो चली , मुझे भ
मनमोहन भाटिया
कविता अच्छी है।
रिप्लाय
Abhi
ha ha... awesome
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.