मेरी प्रेम कहानी

अरुण गौड़

मेरी प्रेम कहानी
(651)
पाठक संख्या − 78637
पढ़िए

सारांश

..सफलता के घोडे पर सवार व्यक्ती बिना कुछ सोचे आगे बढता रहता है लेकिन असफल व्यक्ति अपने हर कदम, हर एक कमी की छानबीन करता है। मै भी असफलता का झंडा उठाये हुए था अत मैने भी अपने जीवन मे गर्लफ्रेडं के आकाल पर काफी रिर्सच किया और उसके नतीजे मे पाया की लडकियो के मामले मे अपने सूखेपन के बहुत से कारणो मे से एक कारण मै भी था, या कहे की सबसे बडा कारण मै स्वंय था। जब भी मै किसी लडकी को देखकर उसे ट्राई करता, उससे पींगे बढाने की कोशिश करता और मेरी उस कोशिश के बीच वहाँ मेरा कोई दोस्त आकर अपनी टाँग अडा देता तो मै उससे कोइ प्रतिद्वन्दता नही करता क्योकी मुझमे लडकियो के मामले मे उससे टकराने की हिम्मत ही नही थी। इसलिये मै स्वयं अपने आप को आउट मान लेता और रिटार्यट हर्ट होकर दोस्ती का फर्ज निभाते हुए मैदान अपने दोस्त के लिये खाली कर देता। ऐसा करने से दुख तो होता था लेकिन ज्यादा दर्द तब होता जब मेरा दोस्त उस लडकी को सफलतापूर्वक अपना मोबाइल नम्बर देकर मैदान जीत जाता था........
Kriti Mourya
😁😁😁😁😁 bhut hi majedar stori h yr bechara ek ye h jisko mil rahi h mnpsnd ki vo hi ni chahate kash humare parents bi man jate to hume bi uuu ghut ghut kr mrna ni pdta
Deepak Rathor
अति सुंदर कहानी है भाई जी
रिप्लाय
kajal
story acchi thi magr happy ko udaas nhi hona chahiye kyou ki sayad jayoti se acche ladhki use na milti tab kya hota.
रिप्लाय
PAWAN SINGH RATHOUR
वाह😐😐😐 बहोत उम्दा👌👌🤓
रिप्लाय
Ritu Sharma
interesting
रिप्लाय
Shobha Saini
Osm
रिप्लाय
Ramesh Chandra
Nice story.
रिप्लाय
Rekha Jain
बहुत अच्छा लिखा है ....
रिप्लाय
divya verma
sachi m bhut pyri kahani hai hasne se rok nhi pai kha wo premi bnane chla tha aur bn gya pati.apki sabhi story arun ji last tk bandh kr rakhi rahti hai bhut mja aya padne me..happy ne sapne me bhi ye socha nhi tha jese wo abhi premika man raha hai wahi uski wife bn jayegi wo bhi itni jldi..
रिप्लाय
Abhay Mishra
very good and interesting story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.