मेरी प्रेम कहानी

अरुण गौड़

मेरी प्रेम कहानी
(620)
पाठक संख्या − 77380
पढ़िए

सारांश

..सफलता के घोडे पर सवार व्यक्ती बिना कुछ सोचे आगे बढता रहता है लेकिन असफल व्यक्ति अपने हर कदम, हर एक कमी की छानबीन करता है। मै भी असफलता का झंडा उठाये हुए था अत मैने भी अपने जीवन मे गर्लफ्रेडं के आकाल पर काफी रिर्सच किया और उसके नतीजे मे पाया की लडकियो के मामले मे अपने सूखेपन के बहुत से कारणो मे से एक कारण मै भी था, या कहे की सबसे बडा कारण मै स्वंय था। जब भी मै किसी लडकी को देखकर उसे ट्राई करता, उससे पींगे बढाने की कोशिश करता और मेरी उस कोशिश के बीच वहाँ मेरा कोई दोस्त आकर अपनी टाँग अडा देता तो मै उससे कोइ प्रतिद्वन्दता नही करता क्योकी मुझमे लडकियो के मामले मे उससे टकराने की हिम्मत ही नही थी। इसलिये मै स्वयं अपने आप को आउट मान लेता और रिटार्यट हर्ट होकर दोस्ती का फर्ज निभाते हुए मैदान अपने दोस्त के लिये खाली कर देता। ऐसा करने से दुख तो होता था लेकिन ज्यादा दर्द तब होता जब मेरा दोस्त उस लडकी को सफलतापूर्वक अपना मोबाइल नम्बर देकर मैदान जीत जाता था........
Anand pareek
Wah wah... Nice story sir.. Asi stories bhot km pdhne ko milti h...
रिप्लाय
Swati Dwivedi
bhut sahi story h apki thoda funny lgi
रिप्लाय
shanti mishra
again awesome 😊👌❤
रिप्लाय
Amit Gour
Nice story brother
रिप्लाय
Thanee Sahu
अच्छी है
रिप्लाय
Deepali Sharma
love story emotional hoti h bt aapki comedy h
रिप्लाय
Bhart Maru
not nice improve kijiye
Geeta Rajput
nice story.........🙂🙂
Kanishk Manoj kumar
mast
रिप्लाय
ajay
😊😊😊👌👌👌👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.