मेरी प्रेम कहानी

अरुण गौड़

मेरी प्रेम कहानी
(562)
पाठक संख्या − 75602
पढ़िए

सारांश

..सफलता के घोडे पर सवार व्यक्ती बिना कुछ सोचे आगे बढता रहता है लेकिन असफल व्यक्ति अपने हर कदम, हर एक कमी की छानबीन करता है। मै भी असफलता का झंडा उठाये हुए था अत मैने भी अपने जीवन मे गर्लफ्रेडं के आकाल पर काफी रिर्सच किया और उसके नतीजे मे पाया की लडकियो के मामले मे अपने सूखेपन के बहुत से कारणो मे से एक कारण मै भी था, या कहे की सबसे बडा कारण मै स्वंय था। जब भी मै किसी लडकी को देखकर उसे ट्राई करता, उससे पींगे बढाने की कोशिश करता और मेरी उस कोशिश के बीच वहाँ मेरा कोई दोस्त आकर अपनी टाँग अडा देता तो मै उससे कोइ प्रतिद्वन्दता नही करता क्योकी मुझमे लडकियो के मामले मे उससे टकराने की हिम्मत ही नही थी। इसलिये मै स्वयं अपने आप को आउट मान लेता और रिटार्यट हर्ट होकर दोस्ती का फर्ज निभाते हुए मैदान अपने दोस्त के लिये खाली कर देता। ऐसा करने से दुख तो होता था लेकिन ज्यादा दर्द तब होता जब मेरा दोस्त उस लडकी को सफलतापूर्वक अपना मोबाइल नम्बर देकर मैदान जीत जाता था........
Ashish Atkan
bhut bdiya dost....
रिप्लाय
Mukesh Kumar
कहानी अच्छी है किन्तु अशुद्धियां बहुत हैं कृपया संशोधन करें।
रिप्लाय
Ritu Gupta
nice story
रिप्लाय
Dimple Jain
very very bery nice....
रिप्लाय
Reeti Srivastava
bachelor life ki baat hi kuch aur h.sajeev chitran.
रिप्लाय
Mahesh Shukla
1.no Bhai
रिप्लाय
Bss
Bss
हा हा हा बहुत ही अच्छी कहानी है
रिप्लाय
ruchira
कहानी अच्छी है पर थोड़ी खिंची हुई है। 5-6 वाक्य स्किप करके भी पढ़ लो तो समझ जाती है
रिप्लाय
shreya
nice story sir! sorry to say but is it your love story?
रिप्लाय
Archana Yadav
nice story,,,, lekin aap shaadi K baad bhi to pyar kar saktey ho or gf bf se kya hota h, apko ye Sochna chahiye K Jise aapne chaha vo Apki h,,,, lekin apto sad Ho rahe ho q..
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.