मेरी पत्नी के गुणों का बखान हास्य कविता

Ravi Jangid

मेरी पत्नी के गुणों का बखान हास्य कविता
(11)
पाठक संख्या − 90
पढ़िए

सारांश

मेरी पत्नी के गुणों का बखान हास्य कविताBy-Ravi jangid- मेरी पत्नी के गुण निम्न हैं- तेरी ये आँखे कैरी की फाँके...  तेरा ये बदन .... संसद भवन..... तेरे ये गाल .... भैंस की खाल... तेरे ये बाल ... मकड़ी ...
उर्मिला तिवारी उर्मिला
हास्य रस में तो अच्छा है वरना जूते गिर सकते हैं 😃😃😃😃
मीरा परिहार
अच्छी प्रीति पगी उपमाएं
Komal Talati
gajab apki wife ne apki rachna padhi kya😜
रिप्लाय
💕
biwi maargi pd liya toh ravi ji😂😂😂
रिप्लाय
Dr.Shalini Shukla Dwivedi
यह तो बढ़िया कविता थी अब एक पति के ऊपर भी लिख डालें
रिप्लाय
Sarita Om
phle apni biwi ko suna lete
रिप्लाय
दुर्गा प्रसाद
सामाजिक स्तर से परे। रह कैसा हास्य ।
रिप्लाय
Krishna Khandelwal singla
ग़लत बात...... पत्नी के बारे मे ऎसे विचार?
रिप्लाय
Mohini Shejwal
मार खाणार आहे आज तुम्ही तुमच्या बायकोच्या हातचा😂😂😂 आणि आम्ही तुमच्या कवितेची तारीफ केली तर आम्हीही शिव्या खाऊ.😷😧😀😀.कविता मस्त👌
रिप्लाय
MANIK ARORA
बहुत खूब👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.