मेरी दरद भरी दास्तान

Mansi Tibrewal

मेरी दरद भरी दास्तान
(20)
पाठक संख्या − 239
पढ़िए

सारांश

( doston apse vinati hai ki iss story ka last tak pdhe kyunki last mae kuch aur hi rukh hai iss dard bhari dasttan ka ) मानसी अपने सपनों में खोई थी कि अचानक अलार्म ...
Jyoti Singh
Kismat me jo hota hai wo hokar rahta hai gunjan ki bhi life choti thi aur usne sach isliye Nahi bataya kyuki mansi (aapko) taklif hoti aapse wo bahut pyar jo karti thi
skand kumar
apni friend se kahna usne humai bhi rula dia
रिप्लाय
nisar mujawar
दर्दभरी दास्तान
रिप्लाय
Maneet
your friend will always be with you. just make her proud one day 🙏
रिप्लाय
Akshay M Chavhan
well writing
रिप्लाय
रामायण उपाध्याय
सत्य को स्वीकारना ही पड़ता है, अब तो आप बहुत आगे निकल चुकी है।
रिप्लाय
Vikashree Kemwal
दुखद लेकिन होनी को कोई नहीं टाल सकता 🙏🙏
रिप्लाय
Akshay Bharti
दर्द भरी कथा है
रिप्लाय
धवल त्रिवेदी
गुंजन ने आपके साथ हमे भी रुलादिया
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.