"मेरी अवंतिका"- एक स्मृति

संतोष उपाध्याय

(71)
पाठक संख्या − 4089
पढ़िए

सारांश

अभिधा शर्मा जी द्वारा रचित उपन्यास "मेरी अवंतिका" के प्रति मेरा शुक्रिया........
Jaya Gupta
मुझे मेरी अवंतिका पढ़ना हैं मैंने आपकी अवंतिका के 32 भाग पढ़े है बहुत ही शानदार प्लीज मुझे तरीका बताए, मैं कैसे मेरी अवन्तिका पढ़ सकूँ।
रिप्लाय
Vikas
santosh ji.apki lekhani ka bhi koi jawab nhi.
रिप्लाय
Priya Swarnkar
bahut sunder panktiya likhi hai sap ne🙏🙏
रिप्लाय
Matrepur Kaisarganj
bhut khub
रिप्लाय
Rahul tyagi
mujha bilkul real story lage
Preeti Bhatia
kya ye real story hai ? jaane kyun lag rha hai ki is story ke sahib aap hi hai? or agar ye real story nhi hai to avantika or sahib ko abhi khushiya milni chahiye thi kyuonki piyush or avantika ek dusre ke bina adhure hai😔
रिप्लाय
Ayushi Shrivastava
आपकी कहानी वाकई दिल को छू गई। हालांकि हम कभी किसी की रचना पर कुछ प्रतिक्रिया नहीं देते पर ना जाने क्यूं आज खुद को रोक नहीं पाए। लेकिन अवंतिका की जिंदगी में खुशियां आने से पहले ही क्यूं चली गई वो।
रिप्लाय
Reenu Rawat
bhut achi
रिप्लाय
khushboo
achhi h but avantika ke shaheb ke bina adhuri h
रिप्लाय
Shaily Vashistha
प्रणाम है आपकी लेखनी को.. अद्भुत लिखा है..मेरे प्रिय उपन्यास के लिए ये असीम भेंट है...
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.