मेरा सपना

शशि कांत सिंह

मेरा सपना
(55)
पाठक संख्या − 10948
पढ़िए

सारांश

एक ऐसा सपना जिसे याद कर आज भी मेरे रूह काँप उठती है. जिसने माँ के पवित्र रिश्ते को भी शक के कटघड़े में खड़ा कर दिया था ...अवश्य पढ़े और अपनी प्रतिक्रिया दे .
Mahesh Sharma
hu. tik take kam. chlau h
मेराज खान
kahani achi par thoda or gahrayi me jake likhte to bhutiya lgta padhne me
Satyendra
pure bakwas kahani kisi Ko aisa chutiya mt bnao
Mukesh Harode
nice
रिप्लाय
Ashutosh Haritwal
सपनो को अपने पास रखा कीजिये यहाँ उसे मसाला लगा के क्यो डाल देते हो। बकवास बनने के लिए
रिप्लाय
Anju Dwivedi
बढ़िया है कहानी.... सपना
aps raj
sapney toh sapne, hote h... 👍
Ankit Maharshi
कहानी को थोड़ा सा ओर खींचा जाना चाहिये था। सपना सच मे डरावना था।
Priyanka Kumari
nice sapna but not so horror
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.