मेरा पहला सपना- भाग 1

अखिलेश प्रधान

मेरा पहला सपना- भाग 1
(102)
पाठक संख्या − 11465
पढ़िए

सारांश

एक दिन उसने बताया कि उसके पापा मुस्लिम हैं, मम्मी क्रिश्चियन है, रिश्तेदारों में देखें तो पारसी और बौध्द धर्म भी पल्लवित होता है। आगे वो बताती कि उसके घर में लगभग सभी धर्मों के रंग मिल जाते हैं। यहां मैं बताना चाहूंगा कि नार्थ ईस्ट वाले कुछ मामलों में वाकई खास हैं, उनका हास्य विनोद भी कमाल होता है। 'बच्चे मन के सच्चे' वाला उनका निरालापन कई बार दिल छू लेता है। हां तो जब वो धर्म के बारे में बतायी तो मैंने कहा अच्छा तुम्हें पता है मैं हिन्दू हूं, देखो तुम्हारे घर में ये एक रंग नहीं है। तुमने शायद ये रंग पहले नहीं देखा है अच्छे से, इसलिए मैं तुम्हारे लिए इतना खास हो जा रहा, शायद इसलिए तुम मुझे GG पुकारती हो, इतना बड़ा क्रेडिट।पता नहीं झूठ-मूठ का बोलती हो या बस ऐसे ही। उसने कहा- अच्छा तो तुम हिन्दू हो, हां यार एक हिन्दू की कमी है हमारा फैमली में। एडजस्ट होने का मन हो तो प्लीज यू कैन एप्लाय। और हां gg तो तुम हो ही मेरे लिए।
Pratibha Saxena
next part ka intezar hai
रिप्लाय
Rupa tiwari
nice
रिप्लाय
डॉ. इला अग्रवाल
baandh liya. agle bhag ka intezar hai...
रिप्लाय
aayushi
Awesome story
रिप्लाय
Pathak Ji
nice story DA
रिप्लाय
V-Ny Chawla
bhot khub
रिप्लाय
Arman Ali Khan
thanks
रिप्लाय
Vikash Kumar
बहुत सुंदर लाइन कमाल का है आप का सोच
रिप्लाय
Prateek Shukla
aisa ho jata hai agar aapki bat Sach hai to ye bhi Sach hai ki is jaha me har cheej pahle see hi tay hai...
रिप्लाय
Lilambuj Kumar
bahut hi achi
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.