मेरा पहला सपना- भाग 1

अखिलेश प्रधान

मेरा पहला सपना- भाग 1
(72)
पाठक संख्या − 8609
पढ़िए

सारांश

एक दिन उसने बताया कि उसके पापा मुस्लिम हैं, मम्मी क्रिश्चियन है, रिश्तेदारों में देखें तो पारसी और बौध्द धर्म भी पल्लवित होता है। आगे वो बताती कि उसके घर में लगभग सभी धर्मों के रंग मिल जाते हैं। यहां मैं बताना चाहूंगा कि नार्थ ईस्ट वाले कुछ मामलों में वाकई खास हैं, उनका हास्य विनोद भी कमाल होता है। 'बच्चे मन के सच्चे' वाला उनका निरालापन कई बार दिल छू लेता है। हां तो जब वो धर्म के बारे में बतायी तो मैंने कहा अच्छा तुम्हें पता है मैं हिन्दू हूं, देखो तुम्हारे घर में ये एक रंग नहीं है। तुमने शायद ये रंग पहले नहीं देखा है अच्छे से, इसलिए मैं तुम्हारे लिए इतना खास हो जा रहा, शायद इसलिए तुम मुझे GG पुकारती हो, इतना बड़ा क्रेडिट।पता नहीं झूठ-मूठ का बोलती हो या बस ऐसे ही। उसने कहा- अच्छा तो तुम हिन्दू हो, हां यार एक हिन्दू की कमी है हमारा फैमली में। एडजस्ट होने का मन हो तो प्लीज यू कैन एप्लाय। और हां gg तो तुम हो ही मेरे लिए।
Lilambuj Kumar
bahut hi achi
रिप्लाय
Gayatri Vaishnav
बहुत खूब लिखा आपने
रिप्लाय
kannada2
nice
रिप्लाय
Pooja Singh
nice story
रिप्लाय
Bharat Sain
बहुत सुन्दर रचना।
रिप्लाय
Dinesh Katara
Admirable
रिप्लाय
Akansha Sahu
bahut hi acha h next part kb padhne milega
रिप्लाय
Santosh Shukla
bhut achii
रिप्लाय
Mahesh Shakuntala Ganesh
next part
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.