मेरा पता बताने का शुक्रिया

सुनीता परिहार

मेरा पता बताने का शुक्रिया
(59)
पाठक संख्या − 5607
पढ़िए

सारांश

उसके घर में कभी लड़के लड़कियों वाले भेदभाव नही थे।न ही कभी कोई लड़की होने का अफ़सोस उन तीनों बहनों पर जताया गया।फिर भी बाला चुपचाप रहती थी बड़े होने की जिम्मेदारी थी या व्यवहार ही ऐसा था।किसी ने कभी ध्यान ...
Renu
बहुत ही सुंदर कहानी प्रिय सुनीता जी | काश एक शिक्षक का ये धर्म सभी शिक्षक निभाने का हुनर रखतें हों |किसी को उससे ही मिलाने की ये प्रेरक पहल माँ शारदे की सच्ची आराधना है |
Sonam Singh
bahut hi achchi kahani
Meena Bhatt.
आप की नायिका बाला जिसका हुनर आप ने पहचान लिया।बहुत ही अच्छी कहानी हमारी बाला आप।👌👌👌👌शुभकामनाएं
vimla y jain
bahut sunder or sashak story
रिप्लाय
Raman Kumar
mam aapke khani ke vichar to bhut hi ache the pr khin na khin kuch baki rh gya hai
रिप्लाय
Sunita Namdeo
behad khub Surat kahani
Sunita Thakur
bhut hi achi story hai sunita g
pooja awal
ek teacher hi he jo ya to bachche ki zindagi sawar de ya dhyan na dekar use kho jane de. par reality ye he ki aise teachers nahi hote. kahani bahut achhi he bas kalpnik hi he. 👍🏻👍🏻
रिप्लाय
Nitesh Jain
teacher ka sarahiya kadam
Ajay Nidaan
बहुत बेहतरीन कहानी किसी के वजूद में आप इतनी गहरी नज़र रखते की उसके अंदर का हुनर भी निखार दे इससे बड़ी बात क्या होंगी की उसे उसकी सही मंजिल का पता मिल गया और समाज को एक प्रेरणा मिलती हैं । बहुत सार्थक। सुनीता
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.