मेघा

शशि रंजन

मेघा
(116)
पाठक संख्या − 4446
पढ़िए

सारांश

“जब मेरे नाम के आगे डाँ लगेगा तब, कितना अच्छा लगेगा न, डाँ मेघा सिंह” “अच्छा तो लगेगा , लेकीन एक बात बताओ, जब तुम अपने नाम के आगे डाँ. लगाने के लिये दिन-रात एक कर के पढोगी, तब तुम्हारे पास मुझसे मिलने का वक्त नही होगा और तब मेरा दिल बिमार पड जायगा, तो फिर मेरा क्या होगा कालियाँ” वो हँसने लगी, और फिर, “मैने आपसे प्यार किया है सरदार, आपको भुलुंगी कैसे” “मुझे तो नही लगता कि आपने मुझसे प्यार किया हैं” “क्यूं?” “कई दिनो से अहसास नही हुआ हैं प्यार का, दिल को और होठो को भी” “अच्छा बच्चू , होठो को प्यार का अहसास चाहिए”
Bhagyashree Deovanshi
Bahut Hi Khoobsoorat Rachana.... Jaldi se apni next story launch kijiye Wo Suspense Thriller Murder Mystery ka second part I am the FOE ka...
Vishal Sharma
bhut hi marmik. aapko bta du ki meri gf ka naam bhi megha hi hai pr jane kyu ab wo baat nhi krti aur ab bs uski yaado ka shara hai
रिप्लाय
Sangeeta Singh
अच्छी और जबर्दस्त कहानी, बदला लेना जरूरी था क्योंकि हमारी न्याय व्यवस्था इतनी लम्बी और लचर है कि उससे न्याय की उम्मीद करना बेकार है।
Deepak Kumar
beyhadh khoobsurat........
रिप्लाय
Neelam Verma
omg aise mat rulaya karo
रिप्लाय
ruchi
awesome
रिप्लाय
Reema Bhadauria
Lovely.. Really nice 😊😊
रिप्लाय
Priyanka tiwari
wakaiii Megha brshi h ajj.......ye dastaan pdhte pdhte.... Ranjan ji
रिप्लाय
Krishna Prasad
अच्छी कहानी
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.