में मेरी कहानी में

अंकित गोरसीया

में मेरी कहानी में
(9)
पाठक संख्या − 179
पढ़िए

सारांश

में मेरी कहानी में तुजे मतलब की तरह सजाऊंगा ज़्यादा तो नहीं, बस मोत आने पर तुजे ज़िंदगी से पहले बुलाऊंगा तेरा इंतज़ार करते करते मर जाऊंगा इससे ज़्यादा तो में क्या कर जाऊंगा तेरे घर की दीवारों के कानों ...
Lk Ahir
बहोत खुब
Mohit Harsoda
Heart touching lines....supperb👌
vivek vekariya
It's too good..!! All the best ankit gorasiya...👍..keep rocking🤘
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.