मुसाफिर ट्रेन के

घुमक्कड़ समीर

मुसाफिर ट्रेन के
(51)
पाठक संख्या − 3131
पढ़िए

सारांश

ट्रेन के दरवाजे पर खड़े लोग बाहर की ओर देखते हैं, लेकिन न तो उन्हें जल्दी उतरने की उम्मीद है और न अंदर कहीं सीट पाने की उम्मीद... बिना उम्मीद के इस सफ़र में मै भी एक कोने दुबका बैठा हूं या कभी कभी ...
Raghuraj Singh
इतनी छोटी यात्रा
sandeep
Kya stories hd ha
Shubham tiwari
आखिर लिखा क्यों???
Kunal Sharma
no star...ye kya tha
Archana Pareek
very occasionally nd nice story.
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.