मुर्दों की ट्रेन

वर्षा श्रीवास्तव

मुर्दों की ट्रेन
(146)
पाठक संख्या − 8170
पढ़िए

सारांश

न वो पिछले स्टेशन से आती है न ही अगले स्टेशन पे जाती है..पर यहां रूकती जरूर है
sachin kothari
badhiya concept hai next part ki utsukta
गरिमा
kya writer ka nam shuru se Varsha hi likha tha? muje kuch aur yaad hai
रिप्लाय
Tinku Acharjee
next part
रिप्लाय
Girraj khatri
बहुत ही बढ़िया हॉरर कहानी लिखी है आपने हर बार में हॉरर है जो कहानी बिल्कुल आंखों के सामने चल रही है जैसा फिल्मों में होता है आप एक रचनात्मक है
Nehu Parihar
main new hoon yahan plz batayiye k story k sare part kaise milenge ek sth
रिप्लाय
Kavi Rajput
really interesting h
Devam Patel
अगला भाग जल्द ही प्रेषित करें
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.