मुरली की धुन?--भाग(७)

सरोज वर्मा

मुरली की धुन?--भाग(७)
(51)
पाठक संख्या − 828
पढ़िए

सारांश

किरन ने मुरली को रूखा सा जवाब दे तो दिया लेकिन उसका दिल भी मुरली को ऐसा जवाब नहीं देना चाहता था, किरन को लगने लगा था कि वो मुरली से लगाव रखकर सूरज को अनदेखा कर रही है लेकिन फिर उसका दिल ये भी कहता था ...
Rajni Sharma
ousm fabulous 👋👋👋👋👋
रिप्लाय
Madhuri Raninga
very heart touching
रिप्लाय
Ashok Lal
bahut sunder story
रिप्लाय
Kiran Singh
आखिर मे सब मिल ही गये माँ की ममता दो मासूम दिल भाई भाई पिता पुत्र अंत भला तो सब भला ।सुन्दर मिलन की कहानी
रिप्लाय
Vandana Rastogi
बड़े नगरों में स्वच्छ जल का अभाव और कहानी में कुंए का मीठा जल पढ़ कर ही तृप्ति का आभास दे गया। गांव का जीवन और स्वभाव की सहजता। श्रेष्ठ कहानी, सुन्दर
रिप्लाय
जुनैद वोहरा
मुझे लगा था कि कहानी अब तक खत्म नही हुई है पर अब पता चला जिस वजह से समय पर समीक्षा न दे पाया सुंदर अंत 😊😊
रिप्लाय
RAGINI RISHI
lovely story 👌👌👌💖
रिप्लाय
Poonam Rawat
supub
रिप्लाय
संतोष नायक
कहानी का सुखद अंत अच्छा लगा। मुरली की धुन ने ही आखिर सब बिछड़े मिला दिये। रचना में ग्रामीण जीवन का वर्णन बहुत अच्छा बन पड़ा है।
रिप्लाय
dinesh kadam
sundar..hridaysparshi antim bhag
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.