मुन्नी भाभी

महिमा (श्रीवास्तव) वर्मा

मुन्नी भाभी
(434)
पाठक संख्या − 16067
पढ़िए

सारांश

छुट्टी का दिन था, तो मानसी ने आज फिर पूरे परिवार को इकठ्ठा कर ताश की बाजी जमा ली थी. माँ के पलंग पर बैठी वो उनसे हमेशा की तरह बतियाती भी जा रही थी, ‘देखो माँ ये वाला पत्ता फेंकू या ये डालूँ,’ आँखों ...
Aruna Garg
kisi ko bhi care ke sath hi jeene ki asha bhi jaroori he.good
Sangita Ajmera
bahut sundar soch sabhi bahue isi tarah ki ho jayeto baat hi kya good
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.