मुन्नी भाभी

महिमा (श्रीवास्तव) वर्मा

मुन्नी भाभी
(408)
पाठक संख्या − 14986
पढ़िए

सारांश

छुट्टी का दिन था, तो मानसी ने आज फिर पूरे परिवार को इकठ्ठा कर ताश की बाजी जमा ली थी. माँ के पलंग पर बैठी वो उनसे हमेशा की तरह बतियाती भी जा रही थी, ‘देखो माँ ये वाला पत्ता फेंकू या ये डालूँ,’ आँखों ...
r h
r h
बहुत ही बढ़िया शानदार
Mamta Upadhyay
बेहतरीन सोंच
Kanak Dwivedi
Ek prerana sbhi k liye
Avdhesh Kumar
bahut hi marmik sandesh he aapki esa lekha me pad kar man ati prasann huva..
Kirti Bhardwaj
wow... bhut hi achcha lga pdhkr
ANUPMA TIWARI
अरे, गज़ब। बहुत ही बड़िया।। बेहतरीन, उम्दा।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.