मुतबक्त और उम्मीद

Mansi Tibrewal

मुतबक्त    और उम्मीद
(22)
पाठक संख्या − 207
पढ़िए

सारांश

mae hmesha dusron ki expectation ko pura krne kae chakkar mae ya disron ko khish krne kae chkkr mae kbhi apne bare mae nhi sochti jiska result nikalta hai ki un logon ko meri kimat samjh nhi ati ..........
गुरिंदर सिंह
मुतबक्त वाकई नारी महान होती है। I salutes..
दिलीप मकवाना
बहुत खूब ☺️☺️👌
रिप्लाय
Maneet
fantastic lines 👏👏👏
रिप्लाय
chirag radadiya
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
भीम .
kya kren ye zindgi esi hi h hme apno ke shath ko bchaye rkhne ke liye hmesha khud ko smjhana hota h
रिप्लाय
ऋषिनाथ झा
बहुत सुंदर रचना 👌यथार्थ की आइना
रिप्लाय
Geetanjli
nice
रिप्लाय
jyoti pedamkar
बहोत खुब.....
रिप्लाय
N.(Priya) Sharma
बहुत बढ़िया ।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.