मुक्ति(1)

प्रकृति

मुक्ति(1)
(38)
पाठक संख्या − 3102
पढ़िए

सारांश

- मुक्ति - सौम्या अपनी बेटी रितु से कहती है बेटा चलो जल्दी नाश्ता कर लो फिर सारा सामान भी पैक करना है रितु, मम्मा मैने अपना सामान पैक कर लिया पर भैय्या ने अभी तक अपना ...
Rajni Bansal
ना जाने क्या हो चला है आजकल के लेखकों को, धारावाहिक कहानियां क्यों लिखते हैं। चूंकि कहानी अच्छी थी, किन्तु अधूरी थी, इसलिए ही स्टार काट लिए।
रिप्लाय
Surekha Sharma
बहुत सुंदर
Yogita Garg
nice
रिप्लाय
अरविन्द कुमार पुरोहित
अच्छी कहानी
रिप्लाय
Mamta Gupta
interesting story
रिप्लाय
Pooja Arora
intrusting ...waiting for next part
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.