मुकम्मल इश्क़

सौरभ जी

मुकम्मल इश्क़
(3)
पाठक संख्या − 42
पढ़िए

सारांश

रिश्ता बड़ा अजीब है मेरा और उसका, मुकम्मल ना होने पर मुकम्मल कहलायेगा। डरता नहीं हूँ  खोने से जो मेरा है ही नहीं , क्योंकि साथ तो खुद की जिन्दगी का भी छूट जाएगा।। जिन्दगी लगा दो सपनों को पाने ...
अनुरोध श्रीवास्तव
वाह क्या बात
रिप्लाय
Jinendra Narwariya
bahut badiya
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.