मुँहजली

रंजना जायसवाल

मुँहजली
(315)
पाठक संख्या − 10931
पढ़िए

सारांश

प्रेम का पदार्पण जीवन में कब हो जाएगा कोई नहीं जानता और यह भी कोई नहीं जानता कि कौन कब और किसके मन को छू लेगा। कभी-कभी बेहद साधारण दिखने वाले की कोई बात मन को भा जाती है और कभी सर्वगुण सम्पन्न भी मन ...
Aashu Jain
बेहद ही मर्मस्पर्शी कहानी 👌👌👌
Mala Arya
बहुत ही आत्मीय रिश्तो को ओर परिभाषित करती कहानी,, वाकई प्रेम मन की सुंदरता को देखता है,, एक कपटी पुरुष पति रुप मे मिल जाये तो जीवन वाकई नर्क से बदतर हो जाता है,, सहना मजबुरी नही हमारी कायरता है
Kulvinder Kaur
dil se dil ka rista jo sb ko smjh nhi ata
Padmini Saini
कुछ रिश्ते इतने आत्मीय होते है की बाकी के नामदार रिश्ते भी उसके आगे फीके पड़ जाते है ।
Varinder Kaur
superb 👌👌 yhi Sacha pyar hy
Ameen Khan
बहुत अच्छी कहानी , परन्तु अचानक खत्म हो जाती है , आँपरेशन कामयाब रहा या नहीं , कोई तो मोड़ देकर खत्म करनी थी
Sonali Joshi
itni sachhi lagti h ye khani.....
Pratima Tripathy
प्रेम सा सुंदर कोई भाव नही है, व्यक्ति के पास चाहे जिस चीज का अभाव हो, प्रेम की दृष्टि पड़ते ही वो ओ पूरा हो जाता है।
Meenakshi Singh
अच्छा लिखा आपने, परंतु हर पृष्ठ के आखिरी पंक्ति का नहीं पढ़ पाना थोड़ा खला
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.