मुँहजली

रंजना जायसवाल

मुँहजली
(294)
पाठक संख्या − 9591
पढ़िए

सारांश

प्रेम का पदार्पण जीवन में कब हो जाएगा कोई नहीं जानता और यह भी कोई नहीं जानता कि कौन कब और किसके मन को छू लेगा। कभी-कभी बेहद साधारण दिखने वाले की कोई बात मन को भा जाती है और कभी सर्वगुण सम्पन्न भी मन ...
saurabh jain
bhut acchi Story hai
Varinder Kaur
superb 👌👌 yhi Sacha pyar hy
Ameen Khan
बहुत अच्छी कहानी , परन्तु अचानक खत्म हो जाती है , आँपरेशन कामयाब रहा या नहीं , कोई तो मोड़ देकर खत्म करनी थी
Sonali Joshi
itni sachhi lagti h ye khani.....
Pratima Tripathy
प्रेम सा सुंदर कोई भाव नही है, व्यक्ति के पास चाहे जिस चीज का अभाव हो, प्रेम की दृष्टि पड़ते ही वो ओ पूरा हो जाता है।
Meenakshi Singh Bhardwaj
अच्छा लिखा आपने, परंतु हर पृष्ठ के आखिरी पंक्ति का नहीं पढ़ पाना थोड़ा खला
Anuradha Bhati
क्या प्यार ऐसे भी होता है.. क्या कोई किसी से इतना प्यार कर सकता है..
neeta
end much air hona chahiye tha
Ramesh Chandra
beautiful, Very nice presentation. Racheyata ko badhai sundartam Rachana ke liye.
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.