मिस-चक्रव्यूह

राजा सिंह

मिस-चक्रव्यूह
(140)
पाठक संख्या − 13133
पढ़िए

सारांश

आज पुनीता नहीं आई थी। शायद बीमार पड़ गई होगी। उसने नोटिश किया था कि आफिस में उसकी मां आ रही थी, उसी से पता चल सकता है कि क्या बात है ? वह अजीब पेशोपेश में है के पूॅंछे कि न पॅूछे? उसे संकोच खाये जा ...
Rajan Kumar
duniya ki asliyat ko bayan karti hui ek behatreen rachna. all the best. keep it up
Yogendra Singh
कथा बहुत अच्छी लिखी गई है। कथानक भी बिल्कुल नया है एक बेहतर कथा लिखने के लिए बधाई।
रिप्लाय
Uday Pratap Srivastava
बहुत ही अच्छी कहानी
रिप्लाय
Ravi Rawat
Bahut hi achi kahani likhi hai apne sir
रिप्लाय
वंदना वर्मा 'आशा'
kahani Kahne wala sb kuchh smjhte hue bhi apni mansik sthiti se ubar nhi pata.....km se kuchh positive ho jata uski vajah se to padhne me achha lgta
रिप्लाय
Rajesh
kya likhte ho aap ..wah...
रिप्लाय
Deep Sidhu
bahut ashi kahani hai . bahut khoob likha hai.
रिप्लाय
Deepak Sharma
heart touching
रिप्लाय
Mahesh Mishra
atiuttam
रिप्लाय
Neelu Trivedi
खूबसूरत जवान ग़रीब और वो भी दलित ...इस दुनिया में तेरा और होता भी क्या लड़की
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.