मिरगी

दीपक शर्मा

मिरगी
(48)
पाठक संख्या − 10905
पढ़िए

सारांश

उस निजी अस्पताल के न्यूरोलॉजी विभाग का चार्ज लेने के कुछ ही दिनों बाद कुन्ती का केस मेरे पास आया था| “यह पर्ची यहीं के एक वार्ड बॉय की भतीजी की है, मैम|” उस दिन की ओपीडी पर मेरे संग बैठे मेरे जूनियर ...
Vandana Srivastava
बहुत अच्छी प्रस्तुति
Rita Gwaliorkar
बहुत ही मार्मिक कहानी है और समस्या का हल भी बहुत तरीके से किया गया है
Shrenik Dalal
Yes, ye mirgi nahi. Magar hysteria kaha jata hain. Jo sach me mirgi nahi magar is tarah ka symptom dikhai deta hain.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.