मायरा

संदीप कुमार केशरी

मायरा
(283)
पाठक संख्या − 38049
पढ़िए

सारांश

"ज्यादा संस्कारी, खामोश, अंतर्मुखी और अनिर्णयी होना अक्सर भारी पड़ता है!"
Sunita Veer
Bahut sunder marmsparshi kahani
रिप्लाय
Kavita Mehta
Heart touching love story end is very sad
रिप्लाय
Mink Dhiman
speechless.. 😢
रिप्लाय
vivek maurya
vivek
रिप्लाय
Rita Mehta
lajwab
रिप्लाय
निमेष पंचाल
सुन्दर कहानी
रिप्लाय
Ajay Gupta
प्यार का त्याग करने वाले सब बहादुर नही होते
रिप्लाय
sugandh yadav
bahut dardnak.....
रिप्लाय
Babita Bhalla Bhalla
very nice story
रिप्लाय
Shakti Madaan
अति सुंदर। बहुत ही अच्छी संरचना जो कभी कभी ही पढ़ने को मिलती है।
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.