मायरा

संदीप कुमार केशरी

मायरा
(62)
पाठक संख्या − 8424
पढ़िए

सारांश

"ज्यादा संस्कारी, खामोश, अंतर्मुखी और अनिर्णयी होना अक्सर भारी पड़ता है!"
Bhavna Patel
Kya har love story ka yahi ant he.
रिप्लाय
MANISHA KUMARI
very nice story wse story me kuchh bacha nhi fir bhii age ka story parna chahungi
रिप्लाय
Gagan deep
sir g last me likha hai k kahani abhi baaki hai .baaki ka b likh do
रिप्लाय
Ayisha Naaz
अंजना को क्यों विलेन बना दिया यार, वन साइडेड प्यार करने वाले विलेन नहीं होते
रिप्लाय
Manish Pathak
Loved the way he wrote.... While reading this story everything was in front of me.... Words and the way of putting story is fabulous. I can easily imagine the whole scene...Loved it... Keep it up and record such stories for larger set of audience.
रिप्लाय
Jyoti sinha
दिल को छू लेने वाली कहानी
रिप्लाय
Nitu Gupta
very nice story.
रिप्लाय
Nayan prakash Jha
दूरगामी और दूरदरशितापूर्ण सोच रखते हो भाई । जीवंत,सामाजिक और कल्पानिक सोच का जबरदस्त मिश्रण है।
रिप्लाय
Shrawan Kumar
बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना है भाई ।आंखें नम हो गयी ।साक्ष और मायरा मेरी वास्तविक जीवन के ही पहलु हैं ।
रिप्लाय
Manisha Rajesh Purohit
Heart touching.........really kabhi kabhi females bhi bahut wrong way per chal ker apni or females ki life destroy ker deti hai
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.