मानव बिरयानी

अर्जित पाण्डेय

मानव बिरयानी
(92)
पाठक संख्या − 7316
पढ़िए

सारांश

रेस्टोरेंट में टेबल पर बैठते ही मैंने वेटर से कहा ,वेटर एक प्लेट मानव बिरयानी लाना साथ में मानव टंगड़ी भी |अन्य टेबलों पर मुर्गी के टांग को दांतों से खींच खींच कर खाने वाले लोग मुझे आश्चर्य से देखने ...
Brajesh Chourasia
jiyo Or jine do..
रिप्लाय
Aty Narula
fast thi but acchi thi new thought 👍
रिप्लाय
Premita Mathur
behtareen....
रिप्लाय
और्व विशाल
बहुत बेहतरीन विचार के साथ प्रस्तुत बहुत रोचक कहानी । मेरा नमन स्वीकार करें
रिप्लाय
yogesh kumar
अच्छी सोच को अच्छे तरीके से कहा है।
रिप्लाय
suman
waoo bahut badhiya..
रिप्लाय
Neelam Singh
लाजवाब
रिप्लाय
Tarun Upadhyay
nice
रिप्लाय
Mistu Banerjee
shi dristikon h apka.. yahan logon ko bina example kch smjh hi nhi aata
रिप्लाय
शुभम् जायसवाल
वाह...बढ़िया... आपकी लेखनी को नमन...
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.