माधुरी

दीपा पांडेय

माधुरी
(171)
पाठक संख्या − 9836
पढ़िए

सारांश

उसने आएने में खुद को निहारा ,चौड़ा माथा ,बड़ी गहरी काली कजरारी आँखे ,नाक तीखी तो नहीं मगर चेहरे पे मासूमियत का जाल बिछाती हुई और मोटे धनुषाकार होठं मानो संतरे की फ़ाको को चुनोती देते हुए ,कि “ आ देखे ...
Manjari Awasthi
very true bilkul meri story
रिप्लाय
ITI MISHRA
A story which makes me smile😊
रिप्लाय
puneeta
nari man ki vyatha ....achhi abhivyakti hai ...
रिप्लाय
Davinder Kumar
Nari man ki vyatha vayakt karti hai aapki kahani
रिप्लाय
Sonia Sharma
kahani adhuri si lag rahi madhuri ko apni bhavnao ko share karna chahiy . nice story
रिप्लाय
nidhi singh
umda
रिप्लाय
Dhananjay Singh
good
रिप्लाय
anil gupta
ek aurat ke maan ki baat ko isme kafi achhe se darsaya gya hai par jab tak hum apne maan ki baat batayege nahi tab tak samjhana muskil hai.its nice story .
रिप्लाय
Bharti Lilare
so sweet story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.