मातमपुर्सी

सूरज प्रकाश

मातमपुर्सी
(31)
पाठक संख्या − 5348
पढ़िए

सारांश

इस बार भी घर पहुंचने से पहले ही बाउजी ने मेरे लिए मिलने जुलने वालों की एक लम्बी फेहरिस्त बना रखी है। इस सूची में कुछ नामों के आगे उन्होंने ख़ास निशान लगा रखे हैं, जिसका मतलब है, मुझे उनसे तो ज़रूर ही ...
Sarthee Sahu
कहानी aachi थी, kya yahi end tha ya aur bhi
Neha Gupta
HArdum rote rahne seDukh kya kam ho jayega.
Siddharth Vashishth
क्या कमाल लिखते हो sir
Kanchan Saxena
अच्छी कहानी
Veena Jha
कहानी अधूरी है....
डा.कुसुम जोशी
अच्छी कहानी ,अतं में पाठक के दिमाग में कुछ प्रश्न रह गये
manoj tyagi
nice story lekin shayad adhuri abhi shayad aage badh sakti thi
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.