माँ...

komal Sahu

माँ...
(3)
पाठक संख्या − 21
पढ़िए

सारांश

माँ... कविता में माँ की ममता ,सरल स्वभाव एवं प्रेम की मार्मिक अभिव्यक्ति की गयी हैं । समस्त संसार में माँ से बड़के कोई देवी-देवता नहीं है ।अतः सभी को माँ का सम्मान करना चाहिए तभी वे अपने सपनों को साकार कर सकेंगे ।
मनु
बहुत खुब माँ
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.