माँ रुपी पिता

मनीषा गौतम

माँ रुपी पिता
(557)
पाठक संख्या − 17515
पढ़िए

सारांश

यदि माँ, प्यार और देखभाल करने का नाम है तो मेरी माँ मेरे पिताजी है। यदि दयाभाव, माँ को परिभाषित करता है तो मेरे पिताजी उस परिभाषा के हिसाब से पूरी तरह मेरी माँ है। यदि त्याग, माँ को परिभाषित करता है तो मेरे पिताजी इस वर्ग में भी सर्वोच्च स्थान पर है।
geeta sharma
aapki kahani pdkr aankho me aansu aa gye. bahut accha likha h aapne
Deepak Saini
अति भावनात्मक
monti raikwar
bhut khub love you so much mere papa
S. Shailja
very heart touching story.
Rajni Bansal
बहुत सुंदर लिखते हो आप👏👏💐💐
Swati Singh
Hart teaching story
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.