माँ नहीं मिलती दोबारा

सुरेखा शर्मा

माँ नहीं मिलती दोबारा
(118)
पाठक संख्या − 6915
पढ़िए

सारांश

मृत्यु का इंतजार मृत्यु से भी भयावह होता है, लेकिन इतनी जल्दी? 'ड्राइवर गाड़ी तेजी से चलाओ।' जबकि ड्राइवर अपनी ओर से गाड़ी भगा ले जा रहा था ।मुझे कुछ भी नही सूझ रहा था। दिल में दर्द की टीस -सी उठ रही
Archana Varshney
बहुत सुंदर
Sheela Kumari
आपने हृदय द्रवित कर दिया आपका आभार🙏
yogesh karaiya
आपकी इस कृति के लिये में क्या लिखूं माँ तो माँ होती है बस ओर नही
Tara Ji
बहुत सुन्दर भाव भरी रचना माँ नही मिलती दोबारा
Ajay
Ma jsa koi nhi hoto...Jo bina kuch khe apne pariwar ko samhalti h...very nice story..
Ravi Rawat
Bahut hi achi kahani hai.Sahi kaha apne ma ke bina jivan adhura hai.
Regina
aansu as gae.... very nice
रिप्लाय
Jaswant Singh
सच में मां नहीं मिलती दुबारा. हृदयस्पर्शी
रिप्लाय
Mohit Saini
बहुत ही मार्मिक रचना 👌👌
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.