माँ तो माँ है ,,माँ तो माँ है

कवि रूपेश राठौड़

माँ तो माँ है ,,माँ तो माँ है
(29)
पाठक संख्या − 192
पढ़िए

सारांश

माँ तो माँ है ,,माँ तो माँ है
अनुपमा झुनझुनवाला
जैसे बहते पानी पर......बहुत ही भाव भरी खूबसूरत पंक्तियाँ 👏👏👏👏👏👏
रिप्लाय
Jasmine Sethi
bahut khoob sir...correct the spelling on कहाँ in 4th line
रिप्लाय
Rajat Singh
बहुत सुन्दर लिखा आपने
रिप्लाय
Deepa Soni
बहुत खूब
रिप्लाय
Bheru Lal
बहूत बहूत अच्छी
रिप्लाय
प्रीती वर्मा
बहुत सुंदर ..लाजवाब
रिप्लाय
sarojkumar95060@gmail.com
आप की अनमोल कलम को एक कलमकार का सादर प्रणाम मां की महिमा अनन्त है
रिप्लाय
Harish Tiwari
bhut shandar
रिप्लाय
Vijaya Pareek
keep it up nice
रिप्लाय
नवीन जोशी 'नवल'
अति सुंदर
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.