माँ _ तुम ही मेरा हौसला

Namrata Pandey

माँ _ तुम ही मेरा हौसला
(20)
पाठक संख्या − 397
पढ़िए

सारांश

अमन का तबादला बुलंदशहर से कानपुर हो गया था ।घर पहुंच कर उसने मां से बताया कि कुछ ही दिनों में वो लोग कानपुर शिफ्ट हो जाएंगे ।सुनते ही मां उदास हो गई क्योंकि वह कभी भी कानपुर नहीं जाना चाहती थी ...
Neelima Gupta
vastviktata ke kareeb hai. nice.
Shweta Misra
प्रेरणादायक कहानी
Kavita Sharma
माँ की सीख किसी विद्यालय में नहीं मिलती।
रिप्लाय
gaurav anand
sundar
रिप्लाय
Meenakshi Shrivastava
maa ki mahanta ka koi ant nahi,, acha likha hey
रिप्लाय
Krishna Kumar
वाह ! बहुत सुन्दर रचना । आपने एक मॉ के संघर्षों , उनके संसकारों और अमन की जिन्दादिली का सजीव और सुन्दर चित्रण किया है । मेरी ओर से ढेर सारी शभकामनाएं ।
रिप्लाय
Pragya Bajpai
बहुत सुन्दर कहानी।
aparna
बहुत सुन्दर,सहज और सरल भाषा मे लिखी एक सधि हुई कहानी,जिसमें कहानी के नायक और उसकी माँ के जीवन संघर्ष और उनके हौसले की उड़ान का सजीव चित्रण कर दिया।।।बहुत खूब
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.