माँ कैसी हो तुम ?

आभा सक्सेना

माँ कैसी हो तुम ?
(234)
पाठक संख्या − 12577
पढ़िए

सारांश

कल ही मैं माँ को मेंन्टल हॉस्पीटल में छोड़ कर आयी हूं उनको मेंटल हॉस्पीटल में छोड़ना मेरी मजबूरी बन गयी थी अगर,परिवार के सभी सदस्य मेरा साथ देते तो मैं कभी भी माँ को मेंटल हॉस्पीटल में नहीं छोड़ती। मॉँ ...
Krishna Khandelwal singla
मर्मस्पर्शी कथा
Shishir Jha
दिल ku छू गया ji😊
Yogita Koshal
Maa ki aesi halat beti ke liye bahut painful hoti hai pur vo apni family ke liye sirdardi and Maa ka apman wali satithi peda nahi kar sakti.
मीरा परिहार
आभा जी आप हर विधा में सिद्धहस्त हैं।
Shashi Mishra
जीवन की कड़वी सच्चाई।मार्मिक कथा
Puneet Mishra
mai khamosh hu kyu ki ye istithi bahut hi ajib hai bs ek hi bat kahuga kisi kobbhi is istithi ka samna na krna pde .
डा. मनसा पाण्डेय
bujurgo ki dekhbhal SB milker kre.yse mi ek asfmi nhi sambhal payga.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.