मशाल

अंजलि 'सिफ़र'

मशाल
(48)
पाठक संख्या − 6628
पढ़िए

सारांश

रजस्वला होने को लेकर कई भ्रांतियों से ग्रसित हैं सब। माओं की तो सबसे बड़ी समस्या होती है बेटी को इससे अवगत करवाना। प्रस्तुत कहानी में इसी समस्या को सुलझाने के लिए एक नई दिशा दी गई है। उम्मीद है सभी बेटियों और माओं को पसंद आएगी
Sanjai
hmarii society ko Abhi air jagrook hona hoga... male aur female .... mother and father dono koi responsibility h kii Apne bacchon Ko shii treekey sey smjhayey .....
रिप्लाय
pooja awal
Beautiful.... ek nayi soch Date ke bare me...👌🏻👌🏻👌🏻👌🏻
Chanda Kumari
you explained it in a very easy way, thanks
reenarawat
bahout sunder kahani... her ldki ki ye problem hoti hai pehli baar lakin maa ko chahiye ki ek smaye per apni beti ko use bare mai itni khubsurti se iske bare mai smjhaba taki inline beti is problem ko smbhal ske
Ssvm Kumar
ये आप ने सही लिखा है ।महीने की शुरुआत आजतक किसी ने सही से नहीं बतायें ।काम की बात है बिटिया को ब,,,,,,,,,,।
Sony Kumari
😊
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.