मन की गाँठ

पूनम टंक

मन की गाँठ
(17)
पाठक संख्या − 1730
पढ़िए

सारांश

ये शादियों का सीज़न भी गजब का होता है ना! हर तरफ गहमा गहमी, शोर-शराबा। जिसे देखो वो ही व्यस्त नजर आता है। क्या पंडित, क्या बैंड, बाजे वाले, क्या हलवाई महीनों पहले से ही बुकिंग करवानी पड़ती है। बाजारों ...
Rupali Srivastava
bilkul Jeevan ja ythart lga es khani ko pad ke..Jeevan ke Kafi kreeb ..nice story
jeetu
ok but not a new story
anjali
very heart touching story
Rajni Agrawal
अच्छी बहुत अच्छी
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.