मन्नत

Neeha Bhasin

मन्नत
(46)
पाठक संख्या − 2272
पढ़िए

सारांश

मैं जल्दी जल्दी काम काम निपटाने में लगी थी, और हाथों से भी शीघ्रता से चल रहा था मेरा दिमाग.. कल ही मेरा बेटा अपने तीन मित्रों के साथ घर आ रहा था. उसके मित्र चेन्नई,व बंगलुरु के थे और नैनीताल घूमने के ...
Archana Khare
rochak puran kahani hai.
रिप्लाय
Pooja Thakur
nice story
रिप्लाय
छवि चौहान
तो चाची ने झुट क्यों बोला?
रिप्लाय
Richa Gupta
बहुत ही बढ़िया
रिप्लाय
Smita Srivastava
bhut khub
रिप्लाय
Mona Parekh
किसी की इच्छा जीतें जी पुरी होती है और किसी की मौत के बाद
रिप्लाय
VISHAL PAL
क्या बात है अब तो किसी दिन नैनीताल आना है बस बारिश बन्द हो जए।
रिप्लाय
Rítu GuPta
Perfect Thriller
रिप्लाय
कृष्णा............
ओफ्फो एक ही सांस में पड़ गया पूरी कहानी ,,,,,
रिप्लाय
Rakhi Shrivastava
very good
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.