मन्नत

Neeha Bhasin

मन्नत
(13)
पाठक संख्या − 772
पढ़िए

सारांश

मैं जल्दी जल्दी काम काम निपटाने में लगी थी, और  हाथों से भी शीघ्रता से चल रहा था मेरा दिमाग.. कल ही मेरा बेटा अपने तीन मित्रों के साथ घर आ रहा था. उसके  मित्र चेन्नई,व बंगलुरु के थे और नैनीताल घूमने ...
Rakhi Shrivastava
very good
रिप्लाय
Preeta Singh
bahut hi badhiya
रिप्लाय
Ramesh Bhasin
Bahut badhiya
रिप्लाय
Farhat parween
achhi kahani hai
रिप्लाय
ज़ैनब ख़ान
आप नैनीताल से हैं?
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.