मणिकर्णिका का घाट और नानी जी की याद

शुभम सिंह

मणिकर्णिका का घाट और नानी जी की याद
(26)
पाठक संख्या − 565
पढ़िए

सारांश

बनारस की वो मड़ीकड़निका घाट जहाँ मै अपने प्रिय नाना श्री को आज से नवसौ सत्तासी दिन यानी दो साल दो सौ सतावन दिन पहले छोड़ आया था😶 वो नाना श्री जो मेरे दिले अजीज करीबी थे💗 उनको जब-जब अपने पास पाया है एक ...
Ankit Sharma
aapne apni dil ki baat jahir ki acha lagai but hame bhi to ek din jana hai god unki aatma ko santi de
Priyanka
bado ki jagah koi Nahi le sakta👍👍👍
Sumedha Prakash
भावुक हृदय से निकले शब्दो से सजी रचना
pushpa panchal
Apno ki kmi khalti hai agar aas paas na ho to Bhut bdiya rachna
Aditi Tandon
सच कह रहे हैं आप ऐसे अच्छे इंसान की कमी हमेशा खलती है 🙏🙏 पर अप्रत्यक्ष रुप से वो अब भी आपके साथ हैं
रिप्लाय
Kalyani Jha
भावों को बहुत ही सुंदर तरह से व्यक्त किया हैं आपने । बहुत बढ़िया 👌👌
रिप्लाय
Mukesh sikarwar
भावों की सुंदर अभिव्यक्ति और विचारणीय
रिप्लाय
Seema Maurya
बेहद भावनात्मक रचना..👌👌
रिप्लाय
Asha Shukla
बेहद खूबसूरत और मर्मस्पर्शी रचना!!👌👌👌💐💐💐💐💐💐
रिप्लाय
अंशु शर्मा
बड़ों का आर्शीवाद हमारे साथ होता है हमेशा ,हम महसूस जरूर कर सकते है
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.